स्कूल मान्यता (Recognition), संबद्धता (Affiliation) और प्रत्यायन (Accreditation) के बीच अंतर

एक विद्यालय के अस्तित्व के लिए मान्यता , संबद्धता और प्रत्यानयन का बहुत ही महत्व है | साधारणतः यह पाया गया है कि इन तीन शब्दों के अर्थ को लेकर लोगों के मन में कुछ शंकाएं बनी रहती है | आइये इन तीन शब्दों का वास्तविक अर्थ जानते हैं |
• मान्यता तब होती है, जब आप किसी चीज़ की मौजूदगी, वैधता या वैधता को स्वीकार करते हैं|
• संबद्धता तब होती है, जब आप आधिकारिक तौर पर संलग्न होते हैं, संबद्ध होते हैं या किसी संगठन से जुड़े होते हैं।
• प्रत्यायन तब होता है जब आप किसी को कुछ के लिए क्रेडिट या आधिकारिक प्राधिकरण देते हैं।
हालांकि, इन तीनों शब्दों का अर्थ, अर्थात् ‘मान्यता’, ‘संबद्धता’ और ‘प्रत्यायन’ स्कूलों के संदर्भ में कुछ हद तक अलग-अलग होते हैं। इसके अलावा, इन तीन शब्दों का पालन केवल उसी प्रक्रियात्मक क्रम में किया जाना चाहिए।
इस प्रकार हम यह कह सकते हैं, कि, एक विद्यालय मान्यता प्राप्त करने के लिए उसे उस राज्य में कानूनी तौर पर पंजीकृत होना है, जिसमें स्कूल चल रहा है। विद्यालय मान्यता प्राप्त होने के बाद, किसी भी प्रसिद्ध बोर्ड ऑफ एजुकेशन जैसे: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई), भारतीय माध्यमिक शिक्षा प्रमाणपत्र (आईसीएसई) आदि से विद्यालय संबद्धता की तलाश कर सकता है । स्कूल बोर्ड से मान्यता प्राप्त होने के बाद, यदि आप अपने विद्यालय को किसी भी शिक्षा बोर्ड में संबद्धता की तलाश करना चाहते हैं, तो मुख्य रूप से, आपको राज्य बोर्ड से अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) प्राप्त करना अनिवार्य है, जिसके बिना आप संबद्धता के लिए आवेदन नहीं कर सकते |
हर कार्य को सफल अंजाम देने के लिए एक अच्छे मार्गदर्शक की आवश्यकता होती है ,और हमारी कंपनी एक ऐसे ही मार्गदर्शक कंपनी है | हम उपरोक्त प्रक्रिया (समबद्धता ) को पूर्ण कराने में एक सफल सहायक है | हमारी उपलब्धियों सेवाओं की जानकारी हमारे वेबसाइट के माध्यम से जान सकते हैं |
हमारी वेबसाइट है :www.indiaeducare.com

Leave us a Message

Your email address will not be published. Required fields are marked *